क्यों कहते है कि कोई भी चीज़ जरुरत से ज़्यादा करो तो वो नुकसानदायक होता है ?

0
1534
Too Much of anything is bad
Photo Credit: greatist.com

बचपन से हम सुनते आये है कि किसी भी चीज़ की अति अच्छी नहीं होती चाहे वो दो लोगो के बीच की दोस्ती ही क्यों न हो। यह नियम हमारे जीवन के हरेक पहलू पर लागू होता है चाहे वो लोगो के बीच शारीरक प्यार हो, या आप जिम में जा कर बहाये जाने वाला पसीना हो या हद से अधिक सोना या जरुरत से कम सोना।

शारीरक सम्बन्ध की अति

Too Much of sex is bad
Photo Credit: medium.com

शारीरक सम्बन्ध दो इंसानो के बीच के प्यार का अंतिम लक्ष्य होता है और शारीरक सम्बन्ध के बिना दो इंसानो के बीच का प्यार अधूरा है। शारीरक सम्बन्ध केवल दो लोगो के बीच आनंद , सुख की भावना नहीं लाता बल्कि दोनों के बीच समबन्ध को मजबूत करने का महत्वपूर्ण जरिया बन जाता है। मगर जब इसकी अति होने लगती है तो यह दुःख कारण बनने के साथ साथ रिश्ते ख़राब होने का भी कारण बनने लगता है। कभी कभी जब इसकी इतनी बुरी लत लग जाती है तो एक पार्टनर दूसरे पार्टनर का रेप करने से भी नहीं झिझकते है और घरेलू हिंसा भी शुरू होने लगती है।

एक्सरसाइज की अति

Too Much of exercise is bad
Photo Credit: Health.com

फिट और तंदुरस्त और स्वस्थ्य रहने के लिए एक्सरसाइज एक अच्छा तरीका है। एक्सरसाइज करने से शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ और चर्बी खत्म होने लगते है और इसके लिए आपको ऊर्जा (कैलोरी) जलाने की जरुरत होती है। दिल को स्वस्थ रखने के लिए एक्सरसाइज एक बेहतर दवा मानी जाती है। लेकिन जब एक्सरसाइज की इंसान अति कर देता है तो इसका असर दिल पर पड़ता है और दिल के दौरे पड़ने के चांसेस 50 फीसदी तक बढ़ जाते हैं। एक्सरसाइज के साथ साथ अपने डाइट पर भी धयान रखे क्योंकि संतुलित भोजन के बिना अगर आप एक्सरसाइज करते है तो एक्सरसाइज से जलने वाली कैलोरी आपके फैट या चर्बी की जगह आपके मसल्स से होने लगती है।

सोने की अति

Too Much of sleep is bad
Photo Credit: Buzzle.com

अगर स्वास्थ्य विशेषज्ञों और अनेको शोधो की माने तो शरीर और दिमाग को स्वस्थ रखने और सुचारु ढंग से काम करने के लिए कम से कम आठ घंटे से दस घंटे की नींद जरूरी है। लेकिन जब आप दस घंटे से भी ज़्यादा सोने लगते है तो यह शरीर और दिमाग दोनों के लिए नुकसानदायक बन जाता है। अधिक सोने के कारण शरीर में मौजूद कैलोरी चर्बी में बदलने लगता है और आपका वजन बढ़ने लगता है। मोटापा अपने साथ अनेको बिमारी को ले कर आता है और शरीर बीमारियों का घर बन जाता है। इसके साथ ही दिमाग में भी जरूरी हार्मोन पैदा होने बंद हो जाते हैं जिससे स्मरण शक्ति को नुकसान पहुंचता है।

Disclaimer : mystoryfeed.com has taken though all possible measures to ensure accuracy, reliability, timeliness and authenticity of the information, we assume no liability of any loss, damage, expense or anything whatsoever as a result of the implementation of the advice/tips given. If you suspect any medical condition, kindly consult your doctor or professional heathcare provider.