18 साल की मृत्यु के बाद भी कराई लड़की की शादी !!

0
410
marraige after eighteen years of death
Photo Credit : timesofindia.indiatimes.com

इसे अन्धविश्वास कहे या परंपरा यहाँ मौत के बाद भी बेटे व बेटियों की शादी करने का रिवाज़ है। यहाँ नटबाजी समुदाय के मीरपुर-मोहनपुर गाँव के रामेश्वर ने 18 साल पहले मरी हुई अपनी बेटी पूजा की शादी हरिद्वार के गोधारोना गाँव के निवासी तेजपाल के मृत बेटे से पूर्ण हिन्दू रीति रिवाज़ों से की ।

उत्तर प्रदेश के साहनरपुर जिले के आबाद नटबाजी समाज में अब भी पुरानी परम्पराओं का दौर चल रहा है । इस समुदाय में मृत बेटे-बेटियों की शादी धूम-धाम से करने का रिवाज़ है। यहाँ दूल्हा-दुल्हन के प्रतिक के तौर पर गुड्डा-गुड़िया की उनके नामो से शादी कर दी जाती है। इस समुदाय के लोगो की यह मान्यता है की पूर्वजो के द्वारा चलायी गयी इस परम्परा से रिश्तेदारी कायम रहती है व् मृत बच्चे भी अविवाहित नहीं रहते।

सबसे बड़ी बात यह है की यहाँ के लोग बाल विवाह के खिलाफ है व् मृत बच्चों की शादी भी उनके बॉलिंग होंगे पर ही करते हैं।गाँव के ही एक बुजुर्ग ग्रामीण सुबन्ना के अनुसार इसी परंपरा को कायम रखते हुए रामेश्वर ने भी अपनी बेटी का ब्याह किया है। बुजुर्ग के अनुसार बारात मृत कन्या के द्वार बारात को बैण्ड-बाजे सहित आती है व शादी की सभी रस्मे पूरी की जाती है तथा कन्या के परिजन अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान दहेज़ भी वर पक्ष को देते हैं।

रामेश्वर नटबाजी ने बतया की उनकी बेटी पूजा का 18 वर्ष पहले 2 वर्ष की आयु में ही देहांत हो गया था व् बड़ी मुश्किलों के बाद उन्हें अपनी मृत बेटी के लिए मृत वर मिल पाया । उन्होंने यह भी बतया की उनकी मृत बेटी पूजा का विवाह सभी हिन्दु रीति-रिवाजो से संपन्न हो गया जहाँ बेटी को लेने आये करीब 4 दर्जन बारातियों के साथ बेटी की विदाई व् आव- भगत भी अच्छे तरीके से हो गयी ।

रामेश्वर ने यह भी बताया की बरसों पुरानी इस परंपरा को उनका समाज निभा रहा है व् अपनी मृत बेटी की विदाई करने के बाद वे अब पूजा से उऋण हो गए हैं।

Read more on Weird News in Hindi